Raam Naam Lekhan Art workshop

रांची. आज माहेश्वरी महिला समिति एवं मारवाड़ी युवा मंच महिला समर्पण शाखा के संयुक्त तत्वावधान में राम  लेखन द्वारा चित्र बनाने की कार्यशाला माहेश्वरी भवन, सेवा सदन पथ में आयोजित की गई. कोलकाता से आयी कविता डागा ने प्रतिभागियों को इस कला से परिचय कराया. राम लेखन कला में किसी भी प्रकार की रेखा या बिंदु का प्रयोग किये बिना केवल राम नाम शब्दों का ही लेखन किया जाता है. कविता ने इस कला के प्राचीनतम आधार, उसका महत्व, कला का जीवन पर सकरात्मक प्रभाव, शुरुआत किये जाने और इस कला को अपनाने के लिए जरूरी बातों के बारे में भी बताया.

Pic 1- Raam Naam Lekhan workshop

60 प्रतिभागियों ने सीखा राम नाम आर्ट

कार्यशाला में 60 प्रतिभागियों ने भाग लिया. इनमें से कई छोटे बच्चे भी शामिल थे. उन्होंने इसे सीखने में बहुत उत्साह दिखाया. कविता ने उन्हें बताया कि इस लेखन तकनीक से उनके अंदर एक तरह की सकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव होगा. यह उनके कंसंट्रेशन लेवल को भी बढ़ाएगा. साथ ही फोकस करना, ऑब्जरवेशन पावर सीखने में मदद मिलेगी तथा उनके पेशंस लेवल में भी सुधार होगा. इस कला में बहुत ही छोटे-छोटे तरीके से राम-राम लिखकर भरा जाता है जिसका कई रूपों में लाभ मिलता है.  इसके अभ्यास के लिए एक चित्र भी बनवाया गया. इस कला को सभी प्रतिभागियों ने मन लगाकर पूरा किया. कविता डागा ने सभी प्रतिभागियों को घर पर अभ्यास के लिये राम लेखन कला की आकर्षक अभ्यास पुस्तिका भेंट की.

Pic 2- Raam Naam Lekhan workshop

जिनका रहा सहयोग

आयोजन को सफल बनाने में समिति की सभी कार्यकर्ताओं का सहयोग रहा. विशेष रुप से समर्पण की अध्यक्ष  मीनू अग्रवाल, माहेश्वरी महिला समिति की अध्यक्ष संगीता चितलांगिया के अलावा सरोज राठी, सरिता चितलांगिया, मंजू मंत्री, लक्ष्मी चितलांगिया,  मनीषा पोद्दार, रश्मि मालपानी,  अमृता साबू, भारती  चितलांगिया, सुमन चितलांगिया और अन्य सदस्यों की प्रमुख भूमिका रही.

Advert

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here